Tuesday, January 26, 2021

कौन ऐसा सत्ता का दलाल है जिसकी दम पर इतनी भीड़ लाल किले तक आ गई ? ------ पंकज चतुर्वेदी


26-01-2021 
26 जनवरी जब दल्ली पुलिस कहती है कि परिंदा भी पर नहीं मार सकता, इतने लोग लाल किला तक पहुंचे कैसे?
चूंकि किसानों की कई सौ किलोमीटर लंबी रैली बाकायदा निकल ही रही थी सो आखिर कौन ऐसा सत्ता का दलाल है जिसकी दम पर इतनी भीड़ लाल किले तक आ गई।
इस वीडियो को ध्यान से देखें । इस भीड़ का अगुआ दीप सिद्धू है जो भा ज पा संसद सन्नी देवल का खास है।










  ~विजय राजबली माथुर ©

Monday, August 3, 2020

यू एस ए का साथ भारत को मंहगा पड़ेगा ------ भरत झुनझुनवाला



भरत झुनझुनवाला साहब ने आर्थिक आधार पर यू एस ए का साथ देने को भारत के लिए घाटे का सौदा बताया है इसके अतिरिक्त राजनीतिक और सांस्कृतिक दृष्टि से भी ऐसा करना अदूरदर्शिता ही है। 
यू एस ए ने रासायनिक हथियारों का झूठा आरोप लगा कर ईराक को नेस्तनाबूद कर दिया अर्थात प्राचीन मेसोपोटामिया सभ्यता और संस्कृति को नष्ट कर डाला। मिस्त्र आदि अनेकों सभ्यताओं व संस्कृतियों को नष्ट करने का दोषी है यू एस ए। 
वर्तमान में चीन और भारत को लड़वा कर यू एस ए  चीन व भारत दोनों की प्राचीन संस्कृतियों को नष्ट करना चाहता है। 
नेताजी सुभाष चंद्र बोस का संकल्प था ' एशिया फार एशियन्स ' यदि उसके आधार पर रूस,  चीन और भारत एकजुट हों तो यू एस ए ही नहीं सम्पूर्ण विश्व का मजबूती से मुकाबला कर सकते हैं। 
इसके अतिरिक्त भारत- बांगलादेश-पाकिस्तान को मिल कर  ' भारत- बांगलादेश- पाक महासंघ ' बनाना चाहिए जिससे तीनों देशों की जनता को राहत मिलेगी सभी जगह उन्नति व समृद्धि हो सकेगी। 1947 में यू एस ए ने ही भारत - पाक विभाजन अपने साम्राज्यवादी हितों को साधने के लिए ब्रिटेन से करवाया था जिसमें वह आज भी संलग्न है। भारत प्रायद्वीप ही नहीं सम्पूर्ण एशिया की जनता का हित सुरक्षित करने के लिए यू एस ए की चालों से बचने की नितांत जरूरत है। 

 ~विजय राजबली माथुर ©

Tuesday, June 30, 2020

मोदी मनमोहन गठबंधन और अमेरिका ------ कुमुद सिंह











30-06-2020
मनमोहन की गद्दारी देश 100 साल बाद समझेगा


नेहरू ने जैसे जमींनदारी हस्तानांतरण कर रैयतों को मूर्ख बनाया, वैसे ही मनमोहन ने उपभोक्ता को गदहा बनाया है। नेहरू की बात छोडिये, वो मरे उनकी नीति मरी और वो समाज भी मर चुका है। बात करते हैं मनमोहन की।
-
पाकिस्तान में जन्मा और इंग्लैंड में पढा यह आदमी विश्व बैंक और अमेरिका का घोषित एजेंट रहा है। पहले ललित बाबू, फिर प्रणब दा, फिर नरसिम्हा‍ राव और अंत में सोनिया गांधी इसके टारगेट लीडर हुए। इस सूची से आप समझ सकते हैं कि अर्थशास्त्र से अधिक राजनीति शास्त्र इस आदमी का मजबूत है।
-
अब आइये नीति पर। याद कीजिए 1989 का कालखंड। उदारवाद के पक्ष में सबसे बडा दावा क्या था। मनमोहन सिंह भारत को बाजार बनाने में लगे थे और उपभोक्ता को क्या समझा रहे थे। सबसे ज्यादा जोर किन बातों पर था। आइये बात टेलीकॉम से शुरु करते हैं। उस समय बीएसएनएल एक मात्र कंपनी थी। लोगों के पास कोई विकल्प नहीं था। मनमोहन ने कहा, "हम उदारवाद के तहत विकल्प देंगे।" भारत का उपभोक्ता लहालोट हो गया। फिर तो बीएसएनएल को "भाईसाहेबनहींलगेगा" का नाम मनमोहन सिंह ने दिला दिया। याद कीजिए जब अटल की सरकार बनी, तो भारत में 22 टेलीकॉम कंपनियां थी। उपभोक्ता मनमोहन को भारत रत्न समझने लगे। विकल्पों में गोदा लगाने लगे। लोहा पूरा गर्म हो चुका था। मनमोहन को अब वो करना था जो करने के लिए उदारवाद लाया गया था, मतलब बाजार पर एकाधिकार।
-
इसी क्रम में मनमोहन ने एक घोटाला प्लांट किया, नाम दिया स्पेंट्रम घोटाला। इस घोटाले ने इस सेक्टर के तमाम खिलाडी को मैदान से बाहर कर दिया। आज टेलीकॉम सेक्टर मे कितने विकल्प हैं। एयरटेल और वोडा का सरकार पर क्या आरोप है। बीएसएनएल की तरह जिओ का बाजार शेयर 100 फीसदी के पास कैसे पहुंचा। जिओ मे अमेरिकी कंपनी की हिस्सेदारी कैसे बढ रही है। क्या 1989 में उदारवाद के पक्षकार ने ऐसा दावा किया था कि आज बीएसएनएल का एकाधिकार है, उदारवाद आने के बाद जिओ का एकाधिकार होगा, जिसमें अमेरिकी कंपनी की हिस्सेदारी होगी। विश्व बैंक और अमेरिका का घोषित एजेंट मनमोहन जी इससे बेहतर नीति और क्या बना सकते थे, अमेरिका के लिए। कहां है वो विकल्प जिसकी बात 1989 में उदारवाद के पक्षकार किया करते थे। समाजवाद का मतलब सरकारी और उदारवाद का मतलब रिलायंस कैसे हो गया मनमोहन बेटा। 
साभार : 

कुमुद सिंह

https://www.facebook.com/esamaadmaithili/posts/3011681525546792?__cft__[0]=AZV78Lp1Y6WeCs-frkYUwnmSgWCwO2RyME_6s2sH4mlaOaOcmJNcesGBppByVKjQMNkpFxeh0C9myPhdxNhegSJSHrc1GAchIc6g8fZaFljDxupvnpCagmjbb9lJEjd8Iaute7epTvkT9mv3wCsayeyGFgZllaly6ibVmiaFUHmj6tmIQKIDHQcW3rY-i2D3Slo&__tn__=%2CO%2CP-y-R


 ~विजय राजबली माथुर ©